-35%

Dhaporshankh | Premchand

5/5

13

In stock

5 reviews for Dhaporshankh | Premchand

  1. Vikram Singh Negi

    प्रेमचन्द जी द्वाराा रचित मानसरोवर से ली गई एक बेहतरीन कहानी ।प्रेमचन्द जी की हर कहानी की तरह आपको रोचक और अपने सम्मुख ही घटती हुई प्रतीत होगी । इसमें एक नवोदित लेखक को एक ठग जिसे ढपोरशंख की संज्ञा दी गई है ,द्वारा कैसे बार बार ठगा जाता है उसका सुन्दर वर्णन इस कहानी में है । प्रेमचन्द जी की कहानियाँ यथार्थ को सत्य को कितनी अच्छी तरह से उजागर करती है कि आप उससे प्रभावित हुए बिना नही रह सकते । उनकी कहानियों में मर्म एवं भावनाएं स्वयं उभर आती है ।अवश्य पढ़ें ।
    बच्चों एवं बड़ों दोनों के लिए समान रूप से उपयोगी ।

  2. Naglash

    प्रेमचंद जी द्वारा लिखी ये कहानी एक नए लेखक की है जिसे एक ठग बार बार ठगता है, उसी ठग को ढपोरशंख कहा गया है जो कहानी का नाम है,कहानी काफी रुचिकर है और आपको अंत तक पढ़ने पर मजबूर करती है जरूर खरीदिये और पढ़िये

  3. Sourabh Sahu

    Is kahani ko padhkar malum hua ki kaise aap apne kalam ke jaadu se kisi ko apne moh paash me bandh sakte hain, kahani ko padh kar laga jaise ye sab mere samne ho raha hai aur mahoday swayam mujhe woh kahani apne samney baith kar suna rahe hain. Yehi to khasiyat hai Premchand sahab ki apni kahaniyo me apne pathako ko samahit karne ki

  4. shivammathers

    धरपोशंख मुंशी प्रेमचंद की मानसरोवर से ली गयी एक कथा है। कहानी के सार मे बस इतना कहा जा सकता है की एक नया लेखक कैसे बार बार एक ही व्यक्ति द्वारा ठगा जाता है, बहुत ही सरलता व कुशलता से लिखी गयी यह कहानी पढ़ने मे उतनी ही रोचक है।

  5. shravan.simply (verified owner)

    Ekdum kaliyug ki kahani hai , lekin aaj ke zamaane me “Dhaporsankh” jaise bhale log kaha milte hain. Bhale hi is kahani me unke dost unko “Dhaporsankh” kahe lekin khel to koi aur hi khel gaya. Aur aisa khel khela ki log ek dusre ki madad karna band kar dein.

    Kahani kaafi achhi aur nishkarsh bhi lajawab. Kahani thug ki nahi hai, kahani ye hai ki kya humein ek laachaar, gareeb aur majboor insaan ki madad karni chahiye ya nahi, bhale hi baad me vo vyakti thug nikale? Kya hamari humdardi, sahanubhooti aur nishpaksh madad us vyakti ke liye uchit hai jo baad me humko pata chalta hai ki thug hai? To iska jawab aur faisala sunane ke liye zaroor padhein ” Dhaporsankh”.

Add a review

ARE YOU IN?

Send me Offers & Updates via SMS & Emails.